15 Aug 2022, 04:2 HRS IST
  • मवेशी तस्करी मामला: तृणमूल कांग्रेस के नेता अनुब्रत मंडल गिरफ्तार
    मवेशी तस्करी मामला: तृणमूल कांग्रेस के नेता अनुब्रत मंडल गिरफ्तार
    श्रावण पूर्णिमा: अयोध्या में उमड़े श्रद्धालु
    श्रावण पूर्णिमा: अयोध्या में उमड़े श्रद्धालु
    राष्ट्रपति मुर्मू ने मनाया रक्षा बंधन का त्योहार
    राष्ट्रपति मुर्मू ने मनाया रक्षा बंधन का त्योहार
    राजौरी जिले में सैन्य शिविर पर आतंकवादी हमला
    राजौरी जिले में सैन्य शिविर पर आतंकवादी हमला
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम खेल
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • बैडमिंटन एशिया तकनीकी समिति ने ‘मानवीय गलती’ के लिए सिंधू से मांगी माफी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:13 HRS IST

नयी दिल्ली, पांच जुलाई (भाषा) बैडमिंटन एशिया (बीएसी) तकनीकी समिति के अध्यक्ष चिह शेन चेन ने दो बार की ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधू से अप्रैल में बैडमिंटन एशिया चैंपियनशिप के महिला एकल सेमीफाइनल मैच के दौरान रेफरी द्वारा की गई ‘मानवीय गलती’ के लिए माफी मांगी है।

 जापान की अकाने यामागुची के खिलाफ सेमीफाइनल मैच के बीच में अंपायरों के ‘अनुचित’ फैसले के बाद सिंधू की आंखों में आंसू आ गये थे। इस फैसले के बाद सिंधू की लय गड़बड़ा गयी और उन्हें हार का सामना करने के बाद कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा।

अधिकारी ने सिंधू को लिखे पत्र में कहा, ‘‘ दुर्भाग्य से, अब इस (तत्कालीन फैसले) में सुधार की कोई गुंजाइश नहीं है।  हमने हालांकि, इस मानवीय त्रुटि की पुनरावृत्ति से बचने के लिए आवश्यक कदम उठाए हैं।‘‘

उन्होंने लिखा, ‘‘ आपको हुई असुविधा के लिए हम ईमानदारी से क्षमा चाहते हैं। हमारा मानना है कि यह खेल का हिस्सा है और इसे इसी रूप में स्वीकार किया जाना चाहिये।’’

यह घटना तब हुई थी जब सिंधू पहला गेम जीतने के बाद दूसरे गेम में 14-11 से आगे चल रही थी। इसके बाद अंपायर ने अधिक समय का ‘ब्रेक’ लेने के आरोप में सजा के तौर पर  विरोधी खिलाड़ी को एक अतिरिक्त अंक दे दिया।

सिंधू ने इसके बाद अपनी लय गंवा दी और तीन गेम तक चले मुकाबले को 21-13 19-21 16-21 से हार गईं।

चेयर अंपायर द्वारा यामागुची को शटल सौंपने के लिए कहने के बाद भारतीय खिलाड़ी को मुख्य रेफरी के साथ बातचीत करते देखा गया था। लेकिन किसी ने उनकी बातों को तवज्जो नहीं दी।

सिंधू ने उस समय कहा था, ‘‘ अंपायर ने मुझसे कहा था कि आप बहुत समय ले रहे हैं लेकिन प्रतिद्वंद्वी खिलाड़ी उस समय तैयार नहीं थी। लेकिन अंपायर ने अचानक उसे अंक दे दिया और यह वास्तव में अनुचित था। मुझे लगता है कि उस मैच में मेरी हार का एक कारण यह भी था।’’

सिंधू विश्व बैडमिंटन महासंघ ((बीडब्ल्यूएफ) एथलीट आयोग की सदस्य हैं। उन्होंने  इस फैसले का विरोध करते हुए तुरंत विश्व निकाय और एशिया बैडमिंटन परिसंघ को एक पत्र लिखा था।

सिंधू के पिता पीवी रमना ने उम्मीद जताई कि भविष्य में ऐसी घटनाएं नहीं होंगी।

उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘ मुझे खुशी है कि उन्होंने गलती स्वीकार कर ली। मैं विनम्रतापूर्वक अनुरोध करता हूं कि अगर ऐसी स्थिति फिर से पैदा होती है, तो रेफरी को कुछ समय लेना चाहिए और वीडियो रिकॉर्डिंग देखने के बाद उचित निर्णय लेना चाहिए।"

सिंधू फिलहाल कुआलालंपुर में मलेशिया मास्टर्स सुपर 500 टूर्नामेंट में प्रतिस्पर्धा कर रही हैं। 

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।