15 Aug 2022, 03:5 HRS IST
  • मवेशी तस्करी मामला: तृणमूल कांग्रेस के नेता अनुब्रत मंडल गिरफ्तार
    मवेशी तस्करी मामला: तृणमूल कांग्रेस के नेता अनुब्रत मंडल गिरफ्तार
    श्रावण पूर्णिमा: अयोध्या में उमड़े श्रद्धालु
    श्रावण पूर्णिमा: अयोध्या में उमड़े श्रद्धालु
    राष्ट्रपति मुर्मू ने मनाया रक्षा बंधन का त्योहार
    राष्ट्रपति मुर्मू ने मनाया रक्षा बंधन का त्योहार
    राजौरी जिले में सैन्य शिविर पर आतंकवादी हमला
    राजौरी जिले में सैन्य शिविर पर आतंकवादी हमला
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • सलीम कुरैशी को एनआईए की हिरासत में भेजा गया

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 21:37 HRS IST

मुंबई, पांच अगस्त (भाषा) मुंबई की एक विशेष अदालत ने दाऊद इब्राहिम गिरोह की आतंकवादी गतिविधियों में मदद पहुंचाने के आरोप में गिरफ्तार सलीम कुरैशी को 17 अगस्त तक के लिए राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) की हिरासत में भेज दिया।

एनआईए ने दाऊद गिरोह के कथित सदस्य मुंबई निवासी सलीम कुरैशी उर्फ ‘सलीम फ्रूट’ को बृहस्पतिवार को गिरफ्तार किया था। एनआईए के मुताबिक, कुरैशी भगोड़े गैंगस्टर छोटा शकील का करीबी सहयोगी है।

कुरैशी के वकील ने दावा किया कि ‘‘शकील का रिश्तेदार’’ होने के चलते उसे ‘‘बलि का बकरा’’ बनाया जा रहा है।

एजेंसी ने शुक्रवार को कुरैशी को विशेष एनआईए अदालत के समक्ष पेश किया, जहां से उसे एनआईए की हिरासत में भेजा गया।

केंद्रीय एजेंसी ने यह दावा करते हुए कुरैशी को 15 दिनों की हिरासत में भेजने का अनुरोध किया कि कुरैशी ने ‘‘डी कंपनी (दाऊद इब्राहिम गिरोह) की आतंकवादी गतिविधियों को आगे बढ़ाने के वास्ते धन जुटाने के लिए संपत्ति के सौदे और विवाद निपटान के जरिये शकील के नाम पर भारी मात्रा में धन उगाही में सक्रिय भूमिका निभाई है।’’

एनआईए ने अदालत को बताया कि उसने मई में मुंबई में 29 जगहों पर छापेमारी की थी और अवैध संपत्ति से संबंधित कई आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद किए थे। इसने कहा कि कुरैशी ने दाऊद गिरोह के नाम पर बिल्डरों को धमकाया और उनसे करोड़ों रुपये की उगाही की।

कुरैशी की ओर से पेश वकील वी. राजगुरु ने रिमांड अर्जी का विरोध किया। वकील ने कहा कि आरोपी दक्षिण मुंबई के भायखला में मेडिकल की दुकान चलाता है और उसकी ऐसी कोई आपराधिक पृष्ठभूमि नहीं है, जो उसके जबरन वसूली गिरोह का हिस्सा होने के आरोप को साबित कर सके।

उन्होंने कहा कि कुरैशी के खिलाफ दाऊद गिरोह से संबंध दिखाने के लिए कोई प्राथमिकी या आरोपपत्र लंबित नहीं है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।