24 Aug 2019, 22:31 HRS IST
  • मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि भागवत भवन में उमड़े श्रद्धालु
    मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि भागवत भवन में उमड़े श्रद्धालु
    पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ लेते
    पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ लेते
    कृष्ण जम्माष्टमी के मौके पर दही हांडी का एक नजारा
    कृष्ण जम्माष्टमी के मौके पर दही हांडी का एक नजारा
    मुंबई में दही हांडी उत्सव में शिरकत करते श्रद्धालु
    मुंबई में दही हांडी उत्सव में शिरकत करते श्रद्धालु
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम प्रेस विज्ञप्ति व्याप्त प्रेस विज्ञप्ति
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
  • प्रेस विज्ञप्ति


स्रोत: Hangzhou Liangzhu Archaeological Site Administrative District Management Committee
श्रेणी: General
यूनेस्को के विश्व विरासत स्थल क्लब के साथ जुड़ी हेंगझोउ की लियांगझू आर्कियोलॉजिकल साइट
11/07/2019 1:47:00:637PM

यूनेस्को के विश्व विरासत स्थल क्लब के साथ जुड़ी हेंगझोउ की लियांगझू आर्कियोलॉजिकल साइट 


हेंगझोउ, चीन, 10 जुलाई, 2019, शिन्हुआ

एशियानेट। हेंगझोउ लियांगझू आर्कियोलॉजिकल साइट की प्रशासनिक जिला प्रबंधन समिति के मुताबिक, चीन के पूर्वी शहर हेंगझोउ में स्थित लियांगझू सिटी के पुरातात्विक खंडहर को 6 जुलाई को सांस्कृतिक स्थल के तौर पर संयुक्त राष्ट्र की शैक्षणिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संस्था की विश्व विरासत सूची में रखा गया है।

चीनी सांस्कृतिक स्थल को शामिल करने के फैसले को अजरबेजान की राजधानी बाकू में आयोजित विश्व विरासत समिति की 43वीं बैठक के दौरान इसके सदस्यों ने समर्थन किया, क्योंकि यह स्थल चीन की 5000 साल से भी पुरानी सभ्यता का प्रमाण है और एक विश्वसनीय तथा अक्षुण्ण विरासत के रूप में खड़ा है। 

इस नए अभिलेख से विश्व धरोहर की सूची में अब चीन की 55 संपत्तियां शामिल हो गई हैं। यह वेस्ट लेक और बीजिंग—हेंगझोउ ग्रांड केनाल के बाद हेंगझोउ में तीसरा विश्व सांस्कृतिक धरोहर स्थल भी है। 

यह संपदा समान आस्था प्रणाली के साथ किसी क्षेत्रीय राज्य के अस्तित्व को प्रमाणित करती है और विश्व विरासत समिति के मुताबिक यांग्जी नदी घाटी द्वारा चीनी सभ्यता में उत्कृष्ट योगदान के साथ साथ बाद के दौर के नवपाषाण चीन में चावल उपजाने पर आधारित कृषि से आर्थिक सहयोग प्राप्त है। 

नदियों के जाल के बीच फैले मैदान में तियानमू पर्वत की पूर्वी तराई में अवस्थित लियांगझू खंडहर किसी समय तेहू झील के आसपास के शुरुआती क्षेत्रीय प्रांत की सत्ता और आस्था का केंद्र हुआ करते थे। 

वर्ष 1936 में वेस्ट लेक म्यूजियम के शोधकर्ता शी शिनजेंग ने झेजियांग की राजधानी हेंगझोउ के बाहरी ओर लियांगझू में व्यापक स्तर पर सर्वे और खुदाई का काम शुरू किया था, जहां उन्होंने कई पूर्व ऐतिहासिक स्थलों की खोज की। लियांगझू की संस्कृति को 1959 में आधिकारिक नाम दिया गया। 

1970 के दशक से लियांगझू के खंडहरों में जियांगसू, शंघाई और झेजियांग के विभिन्न पुरातात्विक प्रयासों से खुदाई कार्य, शोध और संरक्षण कार्य किए गए ताकि लियांगझू की संस्कृति को मैटेरियल लाइफ, सेटलमेंट फॉर्म, संगठनात्मक संरचना, क्रमिक अनुपात, आध्यात्मिक आस्था, शिष्टाचार प्रणाली और सभ्यता प्रक्रिया के संदर्भ में समृद्ध रखा जा सके। लियांगझू शहर की खोज के साथ पूर्व ऐतिहासिक प्राचीन शहर करीब 4000 से भी अधिक वर्षों तक गुमनामी में रहा जिसे 2007 में सामने लाया गया। 

लियांगझू शहर के साथ लियांगझू के खंडहर मुख्य रूप से लियांगझू सभ्यता के केंद्र हैं। इसके अवशेष के प्रकार समृद्ध हैं और इस स्थल की संरचना संपूर्ण है, जो चीनी सभ्यता के मूल और आधारभूत चरित्र को दर्शाती है और 5000 वर्ष से भी पुरानी चीनी सभ्यता के सबसे संपूर्ण और महत्वपूर्ण पुरातात्विक साक्ष्य पेश करती है। खासकर, प्राचीन मिस्र और सुमेरियन सभ्यता के काल में ही बना लियांगझू शहर स्तर और तथ्यों के मामले में विश्व में इसी तरह के स्थलों की तुलना में अत्यंत दुर्लभ है और इसे 'पहला चीनी शहर' कहना भी बिल्कुल जायज है। 

यूनिवर्सिटी आॅफ कैंब्रिज से आर्कियोलॉजी के सेवानिवृत्त प्रोफेसर और ब्रिटिश एकेडमी के सहयोगी कोलिन रेनफ्रे के मुताबिक, चीन के नवपाषाण युग से निकले निष्कर्षों के महत्व की बहुत ज्यादा अनदेखी की गई। लियांगझू के ऐतिहासिक स्थल से निकले कोंग और बी इस द्व की एकता के मूल्य को दर्शाते हैं। लियांगझू में समाज की जटिलता इस देश की विविधता के अनुकूल ही है।'

लियांगझू शहर के पुरातात्विक खंडहर विश्व में चीन के नवपाषाण युग की बहुत ज्यादा अनदेखी को दर्शाते हैं, यह 5000 साल पुरानी सभ्यता का बयां करते हैं और चीनी तथा वैश्विक इतिहास का पुनर्लेखन करते हैं। 

स्रोत: हेंगझोउ लियांगझू आर्कियोलॉजिकल साइट एडमिनिस्ट्रेटिव डिस्ट्रिक्ट मैनेजमेंट कमेटी 

तस्वीर संलग्नक लिंक: 



संपादक : यह विज्ञप्ति आपको एशियानेट के साथ हुए समझौते के तहत प्रेषित की जा रही है। पीटीआई पर इसका कोई संपादकीय उत्तरदायित्व नहीं है।

संपर्क:
मीडिया संपर्क विवरण:
 Bookmark with:   Delicious |  Digg |  Reditt |  Newsvine
    • arrow  प्रेस विज्ञप्ति
  • pti